GK इतिहास शैक्षणिक

जानिए प्रत्येक भारतीय के लिए 26 जनवरी का दिन क्यों खास है – गणतंत्र दिवस

26 जनवरी – गणतंत्र दिवस

दोस्तों, हम सभी जानते हैं कि 26 जनवरी 1950 के दिन हमारा देश गणतंत्र हुआ। उसका इतिहास जेसे की 15 अगस्त 1947 और 26 जनवरी 1950 के बिच क्या हुआ था, और कैसे हमारा संविधान अस्तित्व में आया ? उसकी थोड़ी जानकारी यहा दी गई है।

15 अगस्त 1947 को हमारा देश अंग्रेजो के शासन से मुक्त हो कर आजाद हुआ, लेकिन देश को चलाने के लीये कोई नीति-नियम, कायदे या स्थायी संविधान नही था। उस समय गवर्नमेंट ऑफ़ इंडिया ऐक्ट १९३५ के अनुसार और उस समय के गवर्नर लोर्ड माउन्ट बेटन देश का कारोबार सँभालते थे।

29 अगस्त 1947 को स्थायी संविधान बनाने के लीये एक समिति बनाई गई ओर उसके अध्यक्ष डॉ. आम्बेडकर  को चुना गया। उस समिति द्वारा संविधान के मुद्दों को तैयार कर 4 नवंबर 1947 को उन मुद्दों को संविधान सभा में प्रस्तुत किया गया था। संविधान के मुद्दों को ध्यान में रखते हुए उन मुद्दों को स्वीकार करने से पहले, संविधान सभा का एक सार्वजनिक सत्र मिला। यह सत्र 2 साल 11 महीने ओर 18 दिन तक चला। इस सत्र में विचार-विमर्श ओर आवश्यक सुधार के बाद 24 जनवरी 1950 को संविधान को दो भाषाओं हिंदी एवं अंग्रेजी में बनाया गया। तारीख 26 जनवरी 1950 को संविधान का अमल शुरू हुआ। और राजेन्द्र प्रसाद भारत के पहले राष्ट्रपति बने।

भारत का यह संविधान दुनिया के सभी देशों के संविधान से सबसे बड़ा लिखित संविधान है। 26 जनवरी 1950 भारत के इतिहास में बहुत महत्वपूर्ण दिन है, सही मायने में 26 जनवरी 1950 को भारत एक पूर्ण लोकतांत्रिक देश बना। हमारे देश के लाखों क्रांतिकारियों, स्वतंत्रता सेनानियों जिसने देश को ब्रिटिश राज से मुक्त करने में अपना पूरा जीवन बिताया ऐसे वीर जवानो का सपना साकार हुआ था।

तब से, हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में पुरे देश में मनाया जाता है। विशेष रूप से इस दिन देश की राजधानी दिल्ली में राष्ट्रपति द्वारा राष्ट्रध्वज लहराया जाता है और सभी शहीदों को श्रधांजलि दी जाती हैं। और भारतीय सेना के शहीदों के परिवार को पुरस्कार दे कर सन्मानित किये जाते है। देश के नागरिक जिन्होंने बहादुरी के कार्य किए हो उनको भी पुरस्कार दे कर सन्मानित किये जाते है।

26 जनवरी के दिन को भारत के लोग खूब उत्साह से मनाके देश के शहीदों को याद करके सलामी देते है। साथ ही इस दिन के महत्व को दिखाने के लिए भारत की राजधानी दिल्ली में भारतीय सेना की सभी तीन शाखाएं और भारतीय संस्कृति की प्रदर्शित करती भव्य परेड भी आयोजित की जाती है।

ये भी पढ़े: भारत का स्वतंत्रता दिवस | Independence Day of India in Hindi

Leave a Comment

one + nineteen =