व्यापार

भारत में पार्टनरशिप फर्म कैसे शुरू करें | How to Start partnership Firm in India Hindi 2019

पार्टनरशिप फर्म: अगर आप अपने पार्टनर के साथ एक नयी साझेदारी फर्म शुरू करने जा रहे है तो आपको कुछ बातो का ध्यान रखना होगा जो काफी महत्वपूर्ण है, सबसे पहले साझेदारी फर्म के नियम व् कानूनों के बारे में जान ले ताकि भविष्य में आपको किसी परेशानी का सामना ना करना पड़े। ये आर्टिकल साझेदारी फर्म के बारे में बात करता है, इसे पढ़ने के बाद आप जान सकेंगे की साझेदारी फर्म क्या है, इसके फायदे क्या है तथा इसे शुरू कैसे किया जा सकता है।

 पार्टनरशिप फर्म क्या है? (What is a Partnership Firm)?

What is a Partnership Firm, पार्टनरशिप फर्म क्या है

साधारण शब्दों में कहे तो पार्टनशिप फर्म एक साझेदारी फर्म होती है, जो दो या उस से अधिक व्यक्तियों द्वारा शुरू की जा सकती है। इसे प्रॉफिट कमाने के उद्देश्य से शुरू किया जाता है, पार्टनरशिप फर्म 2 या उस से अधिक व्यक्तियों द्वारा चलायी जाती है, उन व्यक्तियों को पार्टनर या भागीदार कहा जाता है। Partnership Firm, सभी पार्टनर्स की सहमति के बाद शुरू किया जा सकता है उसके लिए उन्हें एक पार्टनरशिप एग्रीमेंट बनवाना होता है, जिसमे पार्टनरशिप फर्म की सारी शर्तो व् नियमो का वर्णन होता है। पार्टनरशिप एग्रीमेंट में बिज़नेस की सभी जानकारी लिखी होती है। पार्टनरशिप एग्रीमेंट बनाने के आप अपनी पार्टनरशिप फर्म को शुरू कर सकते है।

 पार्टनरशिप फर्म कैसे शुरू करें (How to Start a Partnership Firm)

पार्टनरशिप फर्म को  बड़े आराम से शुरू किया जा सकता है क्योंकि इसे शुरू करना बहुत आसान है। इसे शुरू करने की पहली शर्त यही है की ये न्यूनतम दो व्यक्तियों द्वारा शुरू की जाये। प्राइवेट लिमिटेड कंपनी की तरह इसमें इसमें ऐसा कोई नियम नहीं है जिससे की आपको न्यूनतम पूंजी का योगदान करना पड़े। पार्टनरशिप फर्म,पार्टनरशिप एक्ट में दिए गए नियमो का पालन करते हुए शुरू की जा सकती है और सबसे महत्वपूर्ण ये है की आपको सबसे पहले एक पार्टनरशिप एग्रीमेंट बनवाना होगा उसके बिना पार्टनरशिप फर्म शुरू नहीं की जा सकती है। Partnership Firm Registration भी बड़े आसानी से करवाया जा सकता है।

➾ पार्टनरशिप फर्म कैसे रजिस्टर करें? (How to Register a Partnership Firm)

How to Register Partnership Firm

किसी भी साझेदारी फर्म का बड़े ही आसान तरीके से रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है हालाँकि रजिस्ट्रेशन अनिवार्य नहीं है पर ये एक महत्वपूर्ण रजिस्ट्रेशन होता है एक पार्टनरशिप फर्म के लिए। अगर आप अपने Partnership Firm का रजिस्ट्रेशन करवाना है तो आप Registrar of Firms से अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है। अगर आप अपने बिज़नेस को एक पार्टनरशिप फर्म में शुरू करना चाहते है तो निचे दि गयी प्रक्रिया का पालन करे।

किसी भी व्यवसाय इकाई या पार्टनरशिप फर्म को उसके नाम से जाना जाता है तो सबसे पहले जरुरी है आप अपने Partnership Firm का एक नाम चुने। आप अपने Partnership Firm का कुछ भी नाम रख सकते है पर आपको एक बात का ध्यान रखना होगा की वो नाम किसी से कॉपी ना किया गया हो और वर्तमान में कोई अन्य बिज़नेस उस नाम से ना चल रहा हो।

नाम चुनने के बाद आपको एक पार्टनरशिप अग्रीमेंट बनाना होगा जो की एक लिखित में सभी पार्टनर्स के बिच का समझौता होता है, इस एग्रीमेंट में सभी पार्टनर्स अपनी शर्तो का वर्णन कर सकते है। एक Partnership Firm की सारी शर्ते, व् नियम इसमें लिखे होता है तथा किस पार्टनर को कितना प्रॉफिट मिलेगा वो भी इसमें लिखा होता है।  इस एग्रीमेंट को स्टाम्प पेपर पे बनाया जाता है और इसको नोटरीकृत भी करना जरुरी है। आप इसमें निम्नलिखित बाते शामिल कर सकते है जो की महत्वपूर्ण है –

➾ पार्टनरशिप फर्म का नाम व्  फर्म का पता

आपके Partnership Firm का विवरण व् प्रकृति, आपको विस्तार में लिखना होगा की आप कोनसा व्यवसाय करने जा रहे है।

  • किस पार्टनर को कितने प्रतिशत प्रॉफिट मिलेगा व् किस पार्टनर को कितनी सैलरी मिलेगी।
  • सभी पार्टनर का नाम व् उनका पता।
  • कोनसा पार्टनर कितनी पूंजी निवेश कर रहा है।

एग्रीमेंट बनाने के बाद आप फर्म शुरू कर सकते है।  अगर आप अपने फर्म का रजिस्ट्रेशन करवाना चाहते है तो आपको रजिस्ट्रार ऑफ़ फर्म्स की वेबसाइट पर जाना होगा और वहा अपना रजिस्ट्रेशन फॉर्म को भरना होगा। जब आप फॉर्म,भरेंगे तो उसके साथ कुछ डॉक्यूमेंट भी आपको जमा करवाने पड़ेंगे और आपको पार्टनरशिप अग्रीमेंट की कॉपी भी साथ में देनी होगी। आपको कुछ आवश्यक दस्तावेज जमा करवाने पड़ेंगे जैसे की पैन कार्ड, आधार कार्ड, व्यवसाई पता, किराया समझौता व् अन्य।  फॉर्म सबमिट होने के कुछ दिनों बाद आपको रजिस्ट्रेशन नंबर प्राप्त हो जायेंगे।

➾ निष्कर्ष

जैसा की आप ऊपर देख सकते है की Partnership Firm को बड़े आसान तरीके से शुरू किया जा सकता है।  सबसे पहले आपको एक नाम सेलेक्ट करना है उसके बाद पार्टनरशिप एग्रीमेंट बनाना होगा व् उसके बाद Partnership Firm registration  करवा सकते है। एग्रीमेंट बनाते समय ध्यान रखे की आप उसमे सारी शर्तो का वर्णन करे ताकि भविष्य में आपको अग्रीमेंट के लिए कोई दिक्कत न हो। तो अगर आप एक Partnership Firm शुरू करने का  सोच रहे है तो ऊपर लिखी गयी बातो का ध्यान रखे।

Guest Post by: Anil Kumar, My Online CA

ये भी पढ़े: 👇👇👇

अब नहीं देने होंगे सब जगह आधार नंबर

Leave a Comment

seventeen − 6 =