स्वास्थ्य

स्वाइन फ्लू क्या है? लक्षण व उपचार Swine Flu Symptoms And Treatment in Hindi 2019

Swine Flu: इस पोस्ट में (Swine flu) स्वाइन फ्लू H1N1 क्या है? स्वाइन फ्लू के लक्षण क्या है? स्वाइन फ्लू कैसे फेलता है? और स्वाइन फ्लू से बचने के उपाय की जानकारी दी गई है.

स्वाइन फ्लू H1N1 वायरस क्या है? (What is Swine Flu H1N1 Virus in Hindi)

स्वाइन फ्लू (Swine flu) एक संक्रमण है जो कई प्रकार के स्वाइन इन्फ्लूएंजा वायरस के कारण होता है. H1N1 इन्फ्ल्यूएंजा या स्वाइन फ्लू दरअसल चार वायरस के संयोजन जैसे कि H1N1, H1N2, H3N1 और H3N2 के कारण होता है. आमतोर पर यह बीमारी केवल सूअरों को प्रभावित करती थी. सूअरों से मनुष्यों में वायरस का ट्रांसमिशन आम नहीं है. लेकिन् उनके वायरस विकसित होने के कारण यह बीमारी अब इंसानों में भी फेलने लगी है.

इंसानों में शुरू में स्वाइन फ्लू मेक्सिको में 2009 में देखा गया था. उस समय यह वायरस का स्ट्रेन 3 प्रकार के स्ट्रेंस का मिश्रण था. उसकेबाद स्वाइन फ्लू दुनियाभर में फेलने लगा. आज भारत में भी हर साल स्वाइन फ्लू के हजारों मामले सामने आते है और उनमें से कई सों लोगों की मौत भी होती है.

स्वाइन फ्लू के लक्षण क्या है? (Swine Flu Symptoms in Hindi)

आमतोर पर (Swine flu) स्वाइन फ्लू के लक्षण किसी सामान्य फ्लू जैसे ही होते है. इन लक्षणों को जितना जल्दी हो सकें पहचान कर उनका इलाज करने से इस बीमारी को गंभीर रूप लेने से बचा जा सकता है.

  • बुखार
  • सिरदर्द
  • थकान
  • कम भूख लगना
  • गले में खराश
  • खांसी
  • नाक बहना
  • दस्त और उल्टी
  • मांसपेशियों में दर्द

बीमारी ज्यादा बढ़ने पर साँस लेने में तकलीफ, श्वसन दर में बढ़ोतरी, छाती में दर्द, चक्कर आना आदि लक्षण पाए जातें है.

Swine Flu Virus

स्वाइन फ्लू कैसे फेलता है? 

स्वाइन फ्लू (Swine flu) का वायरस किसी संक्रमित चीजों या लोगों के संपर्क में आने से फेलता है. यदि किसी संक्रमित व्यक्ति द्वारा छुए हुए दरवाजें का हैंडल, नल, गिलास, कंप्यूटर कीबोर्ड, स्विच या अन्य कोई चीज जिसको कोई दूसरा व्यक्ति छु ले. तो फिर उसके हाथों से मुह, नाक या आँख से स्वाइन फ्लू का वायरस उस व्यक्ति के शरीर में पहुँच सकता है.

किसी अन्य फ्लू के समान संक्रमित व्यक्ति के छींकने से या खांसने से छोटी छोटी बूंदों के रूप में वायरस हवा में फेल सकते है. और जब आसपास स्थित कोई दूसरा व्यक्ति साँस लेता है तो स्वाइन फ्लू के वायरस का शिकार बन सकता है.

स्वाइन फ्लू से बचने के उपाय (Swine Flu Treatment in Hindi)

स्वाइन फ्लू से बचने के लिए सफाई बहुत मायने रखती है. किसी सार्वजानिक चीजों को छुंने के बाद अपने हाथ अच्छे कीटाणु मारनेवालें किसी साबुन या हैंडवोश या ऐसे प्रोडक्ट्स के उपयोग से साफ़ और कीटाणुरहित करें.

यदि आप किसी संक्रमित इलाके में जा रहे हो या ट्रेवल कर रहे हो तों भीड़-भाड वाली जगह पर न जाए. और यदि जाना जरुरी हों तों मास्क पहन कर जाए. घर, ऑफिस में अच्छी सफाई रखें. खांसते या छींकते वख्त अपने मुह को अच्छी तरह ढके. स्वाइन फ्लू के मरीज द्वारा इस्तेमाल की गई चीजों का उपयोग न करें.

कोई भी लक्षण पाए जाने पर बिना गभाराए तुरंत अच्छे डॉक्टर की सलाह लें.

ये भी पढ़े: 👇

👉 मलेरिया के लक्षण व् कारण (मलेरिया कैसे होता है?)

👉 टाइफाइड Typhoid के कारण, लक्षण ,बचाव व् उपाय

👉 स्तन कैंसर के लक्षण (Stan Cancer Lakshan)

👉 डायबिटीज कंट्रोल करने के घरेलू उपाय

[irp]

Leave a Comment

twenty − 14 =